Spacer
 
Spacer
  Business.gov.in Indian Business Portal
An Initiative of India.gov.in
 
 
तीव्र मीनू

Trade
spacer
Trade विदेशी कारोबार नीति
Trade कारोबार करारनामे
Trade कारोबार सांख्यिकी
Trade अंतरराष्‍ट्रीय कारोबार के रूझान
   
 
Trade
Trade
 
कारोबार एक राष्‍ट्र के आर्थिक विकास और वृद्धि को टिकाऊ बनाए रखने का एक अपरिवर्तनीय साधन है। भारत मे विदेशी कारोबार को अभिशासित करने वाला मुख्‍य विधान है विदेशी कारोबार (विकास और विनियमन) अधिनियम, 1992। अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार भारत सरकार विदेशी कारोबार नीति तैयार करती है और समय-समय पर इसे संशोधित करती है। नई विदेशी कारोबार नीति (एफटीपी) की घोषणा अगस्‍त 2004 में की गई, जिसमें वर्ष 2004-2009 की अवधि शामिल है, भारत के विदेशी कारोबार क्षेत्र के समग्र विकास के लिए एक व्‍यापक नीति है। यह दो मुख्‍य उद्देश्‍यों के आसपास निर्मित की गई है : (i) अगले पांच वर्षों में वैश्विक मर्चेंडाइस कारोबार की प्रतिशत भागीदारी को दो गुना करना; और (ii) रोजगार उत्‍पादन को बल देकर कारोबार में आर्थिक वृद्धि के एक प्रभावी साधन के रूप में कार्य करना।

वाणिज्‍य और उद्योग मंत्रालय भारत में विदेशी कारोबार के प्रवर्तन और विनियमन से जुड़ा सबसे अधिक महत्‍वपूर्ण अंग है। मंत्रालय में कारोबार के विभिन्‍न पक्षों की देखभाल के लिए एक विशाल संगठनात्‍मक व्‍यवस्‍था है। कारोबार से संबंधित इसके दो महत्‍वपूर्ण कार्यालय हैं : ''विदेशी कारोबार महानिदेशालय (डीजीएफटी)'' और ''वाणिज्यिक बुद्धिमत्ता महानिदेशालय'' (डीजीसीआई एण्‍ड एस)। डीजीएफटी भारतीय निर्यातकों को प्रोत्‍साहन देने के मुख्‍य उद्देश्‍य सहित विदेशी कारोबार नीति/आयात-निर्यात नीति के कार्यान्‍वयन के‍ लिए उत्तरदायी है। यह निर्यातकों को लाइसेंस जारी करता है और क्षेत्रीय कार्यालयों के नेटवर्क के माध्‍यम से इनकी संगत बाध्‍यताओं की निगरानी की जाती है। डीजीसीआई एण्‍ड एस को नीति निर्माताओं, शोधकर्ताओं, आयातकों, कारोबारियों के साथ विदेशी ग्राहकों द्वारा आवश्‍यक पाई गई विभिन्‍न प्रकार की सूचना और कारोबार सांख्यिकी के संग्रहण, संकलन और प्रकाशन/प्रसार का कार्य सौंपा गया है।

भारत बहु-पार्श्‍वीय, क्षेत्रीय और द्विपक्षीय स्‍तरों पर कारोबारी बातचीत और करारनामों में भी संलग्‍न है। यह विश्‍व व्‍यापार संगठन (डब्‍ल्‍यूटीओ), यूनाइटेड नेशनल कॉन्‍फरेंस ऑन ट्रेड एण्‍ड डेवलपमेंट (यूएनसीटीएडी), एशिया और प्रशांत हेतु आर्थिक और सामाजिक (एस्‍केप) आदि जैसे अंतरराष्‍ट्रीय अभिकरणों के साथ मिलकर कार्य करता है और साथ ही यह टेरिफ और गैर-टेरिफ बाधाओं सहित देशों के समूह या अलग-अलग देशों के साथ विचार विमर्श करता है, अंतरराष्‍ट्रीय वस्‍तु करारनामे, अधिमानी/मुक्‍त व्‍यापार करारनामे, निवेश के मामले आदि। कुछ प्रमुख क्षेत्रीय कारोबारों की व्‍यवस्‍था, जिनमें शामिल हैं : दक्षिण एशियाई मुक्‍त व्‍यापार क्षेत्र करारनाम (एसएएफटीए); एशिया-प्रशांत कारोबार करारनामा (एपीटीए); आसियान और भारत आदि के बीच विस्‍तृत आर्थिक सहयोग पर करारनामे आदि रूपरेखा आदि।

^ ऊपर
वाणिज्‍य और उद्योग मंत्रालय
विदेशी कारोबार महानिदेशालय (डीजीएफटी)
वाणिज्यिक बुद्धिमत्ता और सांख्यिकी महानिदेशालय (डीजीसीआई एण्‍ड एस)
विदेश मंत्रालय
 
 
Government of India
spacer
 
 
Business Business Business
 
  खोजें
 
Business Business Business
 
Business Business Business
 
मैं कैसे करूँ
Business कम्‍पनी पंजीकरण करूं
Business नियोक्‍ता के रूप में पंजीकरण करें
Business केन्‍द्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) में शिकायत भरें
Business टैन कार्ड के लिए आवेदन करें
Business आयकर विवरणी भरें
 
Business Business Business
 
Business Business Business
 
  हमें सुधार करने में सहायता दें
Business.gov.in
हमें बताएं कि आप और क्‍या देखना चाहते हैं।
 
Business Business Business
Business
Business Business Business
 
निविदाएं
नवीनतम शासकीय निविदाओं को देखें और पहुंचें...
 
Business Business Business
Business
Business Business Business
 
 
पेटेंट के बारे में जानकारी
Business
कॉपीराइट
Business
पेटेंट प्रपत्र
Business
अभिकल्पन हेतु प्रपत्र
 
 
Business Business Business
 
 
 
Spacer
Spacer
Business.gov.in  
 
Spacer
Spacer